Experiencing Life...

Live..Learn..Think


Pata hi nahi chala..

पता ही नहीं चला,
 यह कब हुआ?

कब वह पंछियों की आवाजें,
सुरों से शोर में बदल गई|
कब तारे यूँ पराये हो गए,
की जैसे एक अरसे से मिले नहीं है|

कब दुनियादारी के दांव पेंच सीखे|
कब दफ्तर की ज़िम्मेदारी को जाना|
कब रंग बिरंगे ख्वाब,
पैसों के हरे नोटों से भर गए|

पता ही नहीं चला,
 मैं कब बड़ा हुआ?

No comments:

Post a Comment

Reactions are encouraging!
Have your say!
(You can comment using facebook plugin as well)

Facebook