Experiencing Life...

Live..Learn..Think


कुछ जानने निकल जाता हूँ..

Posting after a long long time. This poem is an expression of  my passion to listen people and talk to people, who have something in common, it can be a common profession, hobby or just the mutual urge to know each other. This poetry is actually a reason behind attending conferences, meetups and poetry sessions, despite being a not-so-social guy.

आराम सहा नहीं जाता मन से,
तो कुछ जानने निकल जाता हूँ|

घर के सुकून से निकलकर,
कोई जूनून ढूंढने निकल जाता हूँ|

यूँ तो ख्यालों की आबादी काम नहीं मेरे जहां में,
फिर भी औरों के सुनने चला जाता हूँ|

सोच उतनी ही होती है, जितने में वो कैद रहती है,
उस सोच को अक्सर आज़ाद करने निकल जाता हूँ|

अक्सर मतभेदों से मुलाक़ात होती है, 
कभी वक़्त जाया करते हैं,
कभी उन्हें अपनाने को मजबूर हो जाता हूँ|

मैं बातें करने के लिए जाना नहीं जाता,
और सुननेवालों को जानता ही कौन है,
व्यापारी हूँ सच्चा, कुछ कहे बिना,
बहुत कुछ सुन समेट लाता हूँ|




आराम सहा नहीं जाता मन से,
तो कुछ जानने निकल जाता हूँ|

1 comment:

Reactions are encouraging!
Have your say!
(You can comment using facebook plugin as well)

Facebook